rajinikanth jokes, kejriwal jokes, sardar jokes, all jokes in hindi

एक भाईसाब अपनी गाड़ी से कहीं जा रहे थे, गलती से उन्होंने एक महँगी गाड़ी के टच कर दी, उस गाडी में से चार हट्टे कट्टे सरदार निकले,
भाईसाब को बाहर निकालकर धमकाने लगे, भाईसाब के पीटने की नौबत आ गयी तो अपने बचाव में बोले – ये तो नाइंसाफी है जी आप लोग
चार हो और मैं अकेला।
यह सुनकर सबसे बड़े सरदार ने अपने साथियों से कहा – बिट्टू और सुरजीत तुम दोनों भाईसाब की साइड हो जाओ, अब भाईसाब ने फिर
कहा ऐसे हो हम 3 हो गए जी और आप सिर्फ 2 ही हो।
ये सुनते ही भाईसाब की साइड हुए बिट्टू और सुरजीत ने भाईसाब से कहा – ओ जी भाईसाब आप निकल जाओ, इन दोनों से तो हम ही
निपट लेंगे।

केजरीवाल को पता चला की रजनीकांत बहुत बड़ी बड़ी बातें करता है, तो वो उनसे मिलने पहुँच गए। रजनीकांत- तुझे पता है अरविन्द बचपन
में मेरे घर में बिजली नहीं होती थी फिर भी मैं पढाई करता था।
केजरीवाल – वो कैसे ?
रजनीकांत- मैं अगरबत्ती जलाता था और उसकी रौशनी में पढता था।

केजरीवाल – इसमें कौनसी बड़ी बात है, मेरे घर में भी बिजली नही थी जी, और हमारे पास तो इतने पैसे भी नहीं थे जी की अगरबत्ती खरीद
कर ले आये। फिर भी मैं पढ़ा।
रजनीकांत- कैसे?
केजरीवाल- हमारे घर के पास प्रकाश नाम का आदमी रहता था उसे पास बिठा कर पढता था। और जब प्रकाश नही आता था तब भी पढता
था।
रजनीकांत – तब कैसे भला?
केजरीवाल – उसके पास वाले घर में ज्योति रहती थी उसे बुला लेता था 😀 😀

रजनीकांत बेहोश ! आज पहली बार कोई उनपर भी भारी पड़ा था।

किसी ने अरविन्द केजरीवाल से पूछ लिया की आप पैरों में जूते क्यों नही पहनते?
केजरीवाल – माँ ने बचपन में कहा था की खाने की चीज़ को पैर नही लगाते 😀

एक बार एक लड़के के मोबाइल पर कॉल आया….
लड़के ने उठाया तो आवाज़ आयी- मैं रजनीकांत बोल रहा हूँ।
लड़का – हाँ जी पता है आगे बोलिये।
रजनीकांत- तुम्हे कैसे पता मैंने कॉल किया है।
लड़का – सर मैंने अपना मोबाइल स्विच ऑफ किया हुआ था। और आपका कॉल आ गया।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.